Body Shaming | क्या किसी को उसके रंग रूप से जज करना सही है?

अजीब बात है लेकिन सच है,जानते सब है लेकिन मानता कोई नहीं। हाँ शायद अभी तक हम इस काबिल ही नहीं बने की इस अहसास को स्वीकार पाए.
अक्सर हम देखते है,हर जगह देखते है और उसे अनदेखा कर देते है. सुनते है और सुन कर भी अनसुना कर देते है. महसूस भी करते है लेकिन उसके खिलाफ कभी आवाज़ नहीं उठा पाते। यह हम अपने आपमें कभी इतने हिम्मती ही नहीं हुये की उसके खिलाफ कभी बोल पाए.
आप भी सोच रहे होंगे की मै क्या किस बारे में बात कर रही हूँ,मै बात कर रही हूँ बॉडीशेमिंग की.
क्‍या कभी आपने अपने बारे में खुद से नकारात्‍मक बातें सुनी हैं, यानी आपको खुद लगा हो कि आपके शरीर में ये कमी है। या फिर आपने अपनी तुलना औरों से की और आपको हीन भावना का आभास हुआ हो, तो यह बॉडी शेमिंग है।.
हमे सबसे ज़यादा बॉडी शेमिंग का अहसास होता है अपने आस पास के मौहोल से। आपने सुना ही होगा आपने की वह मोटा है तो वह काला है। तुम इतने दुबले क्यों हो कुछ खाते क्यों नहीं । तुम इतने मोटे क्यों हो -डाइटिंग करो. वह काली वाली लड़की। कभी कभी तो हम उस इंसान को उसके नाम से बुलाने की बजाये उसे मोटा,पतला यह काला कह कर बुलाते है. मैंने यह हर जगह देखा है और काफी बार मह्सूस भी किया है कभी कुछ बोला नहीं। शायद हिम्मत ही नहीं जुटा पायी कभी।

हमेशा यह खायाल आता है की क्या किसी को उसके मोटे ,पतले ,गोरे काले इन सब चीज़ो को लेकर जज करना सही है ??क्या कभी हम ने सोचा है की जिस इंसान को हम मोटा काला कह कर बुला रहे है उस इंसान पर क्या गुज़रती होगी.
हम इन चीज़ो को लेकर कभी भी किसी को दोषी नहीं कह सकते।बचपन से ही तो देखते आये है टीवी चैनल पर,हर जगह – गोरे बनाने वाली क्रीम ,यह हाइट बढ़ने वाली दवा। अगर काली हो तो’शादी नहीं होगी।
आज भी हम बहत सरे पैसे खर्च कर देते है इस तरह के प्रोडक्ट पर .मै यह नहीं कहती की कोई भी इस तरह क्रीम लगाना गलत है बल्कि मेरा बस यह मानना है की काले होना ,कम शकल होना ,कम हाइट का होना किसी की कुरूपता की निशानी नहीं मानी जाना चाहिए।
हर इंसान को वह जैसा है उसे वैसे ही स्वीकार करना चाहिए।
मै इस बात को मानती हूँ की हर में कमी होती है कोई पूर्ण नहीं होता पर किसी का काला होना ,नाटा होना ,दुबला होना ,मोटा होना यह कोई कमी नहीं है.यह एकदम नार्मल है। जैसे कोई गोरा है,तो वैसे ही कोई काला है। कोई दुबला है तो कोई मोटा है। कोई लम्बा है तो किसी की लम्बाई काम है। यह एकदम नार्मल है.
अगर आप अपने आस पास किसी ऐसे वयक्ति को देखते है जो की बॉडी शेमिंग का शिकार है ,तो उसके पास जाए और उसे अहसास कराये की वह इंसान अपने आप में अच्छा है.कई बार आपके कहे गए कुछ तारीफ के शब्द सामने वाले इंसान के कॉन्फिडेंस को वापस ला सकते है.उसके चेहरे पर एक प्यारी सी मुस्कान ला सकते है।

1 thought on “Body Shaming | क्या किसी को उसके रंग रूप से जज करना सही है?”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link
Powered by Social Snap